Cryptocurrency kya hai in Hindi? क्रिप्टोकरेंसी क्या है?

Cryptocurrency kya hai in Hindi? दोस्तों क्या आप क्रिप्टोकरेंसी क्या है ? इस बारे में जानते हैं आज के इस ब्लॉग में हमने क्रिप्टोकरेंसी और इससे जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी दी हैं।


Cryptocurrency एक डिजिटल मनी हैं जो की अंको के रूप में ऑनलाइन होती हैं इस पर किसी भी देश या सरकार का कोई नियंत्रण नहीं रहता हैं। यह किसी भी देश या सरकारी विभाग द्वारा जारी नहीं किये जाते हैं। क्रिप्टोकरेंसी ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी पर आधारित एक डिजिटल पैसा है। 
बहुत बार आपने अपने जीवन में अपने दोस्तों से या समाचार पत्रों या न्यूज़ चैनल द्वारा क्रिप्टोकरेंसी के बारे में सुना होगा अगर आप इस टेक्नोलॉजी के बारे में जानने या फिर इसमें निवेश करने के लिए उत्सुक हैं तो आइये इस ब्लॉग में जानते हैं कि क्रिप्टोकरेंसी वास्तव में क्या हैं। 

Cryptocurrency kya hai in Hindiक्रिप्टोकरेंसी क्या है

क्रिप्टोकरेंसी एक प्रकार की ऐसी मुद्रा ( पैसा ) नहीं है जिसका उपयोग वास्तविक दुनिया में किया जा सकता हैं। इसका उपयोग केवल डिजिटल दुनिया में लेनदेन करने के लिए किया जाता हैं। आप क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग किसी भी सामान को खरीदने या बेचने के लिए कर सकते हैं परन्तु आपको इसे मौजूदा मुद्रा में परिवर्तित करना होगा जैसे रूपये या डॉलर आदि।

Cryptocurrency kya hai in
क्रिप्टोकरेंसी


Cryptocurrency ब्लॉकचैन तकनीक पर काम करती हैं यह तकनीक बहुत सुरक्षित तकनीक हैं जिसकी मदद से क्रिप्टोकरेंसी को नकली या दोहरा इस्तेमाल करना लगभग असंभव हो जाता हैं। 

जैसे बहुत सारे देशों की कोई ना कोई currency ( मुद्रा ) होती हैं जैसा भारत में रुपया और अमेरिका में डॉलर आदि ठीक उसी तरह से क्रिप्टोकरेंसी भी एक तरह की मुदरा या currency हैं परन्तु इसका इस्तेमाल दैनिक चीजों को खरीदने या बेचने के लिए नहीं हो सकता हैं क्युकि यह एक डिजिटिल मनी हैं। इसका इस्तेमाल करने के लिए पहले इसे किसी वास्तविक दुनिया की मुद्रा से बदलना होगा जैसे रूपये, दीनार, डॉलर आदि से। 

History of Cryptocurrency

जैसा की आपको पता होगा और आपने यह डायलॉग भी कई बार सुना होगा की हर चीज की एक कीमत होती हैं, अगर आप के पास कुछ सामान हैं और आप उसे किसी को बेचना चाहते हैं तब आप उस सामान को किसी कीमत पर या किसी वस्तु के बदले बेच देते हैं और आपको उस सामान की एक कीमत प्राप्त हो जाती हैं। 


बहुत पुराने दौर में लोग वस्तु विनिमय प्रणाली का उपयोग करते थे जिसमें दो लोगो के बीच या बहुत सारे लोगों के बीच वस्तुओं या सेवाओं का आदान-प्रदान होता था। अगर किसी व्यक्ति के पास चावल हैं जिसे बेचकर वह किसी और चीज़ जैसे सब्जी या दाल खरीदना चाहता हैं उस परिस्थिति में वह किसी को चावल बेचकर दाल प्राप्त कर लेता था जिससे उसको उसकी वस्तु का एक दाम मिल जाता था। 


वस्तु विनिमय प्रणाली में कुछ खामियां थी जिसकी वजह से यह उपयोग से बाहर हो गयी जैसे अगर आपको किसी से व्यापर करना है तो आपके पास कुछ न कुछ सामान या वस्तु होनी अनिवार्य थी और अगर आपके पास व्यापार के लिए सामान भी हैं तब दूसरे के पास भी कुछ सामान होना अनिवार्य था जिससे आप व्यापार कर सके। लोगो की जरूरतों के आधार पर अगर सामान कम हैं तब मूल्य कुछ निर्धारित नहीं हो सकता था। 

लोगों को यह एहसास होने के बाद कि वस्तु विनिमय प्रणाली बहुत अच्छी तरह से काम नहीं करती है, मुद्रा कुछ पुनरावृत्तियों के माध्यम से चली गई। सन 110 में, एक आधिकारिक मुद्रा का खनन किया गया था सन 1600 से 1900 तक, कागजी मुद्रा ने व्यापक लोकप्रियता हासिल कर दी थी और पूरी दुनिया में इसका इस्तेमाल किया जाने लगा। इस तरह आधुनिक मुद्रा, जैसा कि हम जानते हैं, अस्तित्व में आई।आधुनिक मुद्रा में कागजी मुद्रा, सिक्के, क्रेडिट कार्ड आदि शामिल हैं।

आधुनिक मुद्राएं और क्रिप्टोकरेंसी में अंतर Cryptocurrency kya hoti hai

आधुनिक मुद्रा में कागजी मुद्रा, सिक्के, क्रेडिट कार्ड और डिजिटल वॉलेट जैसे फ़ोन पे, गूगल पे आदि  शामिल हैं लेकिन इन पर भी कुछ समस्याएं उन्पन्न हो सकती हैं। कल्पना करें की आपको किसी व्यक्ति को ऑनलाइन पैसे भेजने हैं या फिर हो सकता हैं की आपको ऑनलाइन शॉपिंग करना हैं और आप इसके लिए ऑनलाइन भुगतान कर रहे हैं। ऐसे कई तरीके हैं जिनसे यह डर हैं की यह गलत हो सकता हैं तकनीकी तौर पर ऑनलाइन सर्वर पर कुछ समस्याएं हो सकती हैं जैसे सर्वर डाउन हो सकता हैं या आपका खाता हैक किया जा सकता हैं। 

अब यह अनुमान लगाया जा रहा हैं की मुद्रा का भविष्य क्रिप्टोकरेंसी के साथ हैं। अब आप अनुमान लगाए की आपके पास कोई एक क्रिप्टोकरेंसी हैं आजकल मार्किट में बिटकॉइन सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी हैं। आप क्रिप्टोकरेंसी को बेच सकते हैं।

बिटकॉइन एप की मदद से दो लोगों के बीच एक सामान लेनदेन होता हैं। एक इनफार्मेशन से यह पता चलता हैं की क्या वयक्ति सुनिश्चित हैं की उसे अपनी क्रिप्टोकरेंसी बेचना हैं क्या वह इस बात के लिए तैयार हैं अगर हाँ, तब एप्लीकेशन के द्वारा प्रोसेसिंग होती हैं एक सिस्टम उपयोगकर्ता की पहचान करता हैं की क्या उसके पास लेनदेन के लिए पर्याप्त मूल्य हैं इत्यादि। उसके बाद, भुगतान को ट्रांसफर कर दिया जाता हैं और पैसा बेचने वाले को प्राप्त हो जाता हैं यह सब कुछ सेकंड या फिर मिनटों में हो जाता हैं।

क्रिप्टोकरेंसी से आपके द्वारा ट्रांसफर किये जाने वाला पैसों की कोई सीमा नहीं हैं आप कितना भी पैसा ट्रांसफर कर सकते हैं और इसे हैक करना या फिर ट्रैक करना नामुकिन हैं जो की आजकल के बैंको में नहीं किया जा सकता हैं क्युकि इनमें कुछ हद तक ही आप लेनदेन कर सकते हैं और आपके ट्रांसक्शन पर गोवेर्मेंट विभाग की पैनी नजर भी रही हैं। मार्किट में अब तक 2000 से ज्यादा क्रिप्टोकरेंसी उपलब्ध हैं और भी बहुत सारी क्रिप्टोकरेंसी आने का इंतजार कर रही हैं। 

Advantages of Cryptocurrency

  • जैसे-जैसे मांग बढ़ेगी क्रिप्टोकरेंसी का मूल्य भी बढ़ते रहेगा और बाजार के साथ बना रहेगा। जब भी कोई नई क्रिप्टोकरेंसी मार्किट में आती हैं तब इसकी एक निश्चित मात्रा और राशि निर्धारित की जाती हैं जैसे दुनिया में केवल 21 मिलियन बिटकॉइन जारी किये गए हैं। 
  • डिजिटल लेनदेन की तुलना में क्रिप्टोकरेंसी अधिक सुरक्षित हैं। इसके लिए गोपनीयता और सुरक्षा हमेशा एक प्रमुख बिषय रही हैं। यह ब्लॉकचैन तकनीक पर निर्भर रहती हैं जो की बहुत ही सुरक्षित तकनीक हैं। ब्लॉकचैन तकनीक बहुत सारे गणतीय अल्गोरिथम पर आधारित हैं जिसे डिकोड करना कठिन हैं। 
  • क्रिप्टोकरेंसी को किसी भी मुद्रा के साथ बदलना आसान हैं आप इसे डॉलर रुपया पाउंड और भी विदेशी मुद्रा या फिर डिजिटल वॉलेट का इस्तेमाल कर खरीद सकते हैं। 
  • क्रिप्टोकरेंसी का सबसे प्रमुख सहायक यह है कि ये मुख्य रूप से विकेंद्रीकृत हैं। विकेंद्रीकृत का मतलब यह होता हैं की इसका कोई केंद्र बिंदु नहीं होता हैं जिससे इसे ट्रैक करना कठिन हो जाता हैं और लेनदेन की भी कोई सीमा तय नहीं होती हैं। 
  • इसका सबसे अहम उपयोग यह हैं की इसके उपयोग से आप एक देश से दूसरे देश में पैसा भेज सकते हैं और आपको इसके लिए कोई भुगतान शुल्क भी नहीं देना होता हैं। 

Disadvantages of Cryptocurrency

  • क्रिप्टोकरेंसी से अवैध कामों को बढ़ावा मिल रहा हैं क्यकि यह काफी सुरक्षित और गोपनीय हैं जिससे सरकारों को किसी का डेटा प्राप्त नहीं हो सकता हैं। बहुत सारे गलत कामों  में इसका उपयोग हो रहा हैं जिसमे हवाला डार्क वेब ड्रग्स खरीदना आदि शामिल हैं। कुछ लोग इसे गलत तरीकों से कमाये गए धन को इनकम टैक्स से छुपाने के लिए भी इसका इस्तेमाल कर रहे हैं जो कि सही नहीं हैं। 
  • इसके मजबूत सिक्योरिटी सिस्टम इसे सुरक्षा प्रदान करते हैं पर अगर आप कोई कॉइन खरीदते हैं तब आपको एक कुंजी मिलती हैं अगर किसी कारणवश यह कुंजी खो जाती हैं तब आपका वॉलेट नहीं खुल सकता हैं और आप अपने वॉलेट में रखे कॉइन को खो सकते हैं। 
  • क्रिप्टोकरेंसी विकेंद्रीकृत होने की अपनी विशेषता के लिए जानी जाती है लेकिन फिर भी इसे इनके कोई बनाने वाले और कोई संगठनों द्वारा चलाया या नियंत्रित किया जाता हैं। बहुत बार इसके दाम दोगुने से भी अधिक हो जाते हैं जिससे यह अनुमान लगाया जा सकता हैं की कुछ कारोबारी इसे ज्यादा मात्रा में खरीद कर मार्किट को उतार चढ़ाव वाला बना देते हैं। 

आशा करते हैं की आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी।आप हमें अपने सुझाव और शिकायत के लिये नीचे कमैंट्स बॉक्स मैं जानकारी दें सकते हैं।

यह भी जानें :

शेयर मार्किट क्या है- Stock Market in Hindi

Demat Account कैसे खोलें?

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x