Network Topology kya hai? Network Topology in Hindi?

Network Topology kya hai? दोस्तों क्या आप टोपोलॉजी के बारे मे जानते है? इस ब्लॉग में हम Network Topology in Hindi के बारे में पूरे विस्तार से जानेंगे।

बहुत सारे स्टूडेंट्स या प्रोफेशनल लोग Topology के बारे में जानना चाहते हैं जैसे कि कौन सी टोपोलॉजी सर्वर कंप्यूटर के हिसाब से बेहतर होती हैं या फिर टोपोलॉजी क्या होती हैं और यह किस तरह प्रयोग की जाती हैं ? गणित के क्षेत्र में टोपोलॉजी क्या हैं ? नेटवर्क टोपोलॉजी क्या हैं समझाइए? इस ब्लॉग में हमने इन सभी topics के बारे में पूरी जानकारी दी हैं।

Network Topology kya hai?

नेटवर्क टोपोलॉजी आमतौर पर नेटवर्क उपकरणों के अरेंजमेंट को कहते हैं अथार्त नेटवर्क टोपोलॉजी वह व्यवस्था हैं जिसके साथ कंप्यूटर सिस्टम या नेटवर्क डिवाइस एक दूसरे से जुड़े होते हैं। इनके लेआउट और डिज़ाइन को ही टोपोलॉजी या नेटवर्क टोपोलॉजी कहते हैं। आइये जानते हैं नेटवर्क टोपोलॉजी कितने प्रकार की होती हैं?

टोपोलॉजी क्या है ( Network Topology kya hai )

कोई लोकल एरिया नेटवर्क या अन्य कम्युनिकेशन सिस्टम के आकर को टोपोलॉजी कहते है। कौन सी Network Topology हैं ये समझने के लिए दो तरीक़े होते हैं जिनकी मदद से network topology को परिभाषित किया जाता हैं।

1- Physical Topology ( भौतिक )
2 – Logical Topology ( तार्किक )

Physical Topology

Physical टोपोलॉजी में एक नेटवर्क के सभी network डिवाइस आपस में एक दूसरे से जुड़कर जो topology का निर्माण करते हैं उसी को Physical या भौतिक टोपोलॉजी कहते हैं।

Logical Topology

Logical topology नेटवर्क डिवाइस की अरेंजमेंट और उनके communication ( संचार ) और Physical नेटवर्क में डेटा के संचार को दर्शाती हैं।

नेटवर्क टोपोलॉजी कितने प्रकार की होती है?

नेटवर्क टोपोलॉजी निम्नलिखित प्रकार के होती है। 

  • BUS Topology 
  • STAR Topology 
  • RING Topology 
  • MESH Topology 
  • TREE Topology 
  • Hybrid Topology 

BUS Topology

BUS Topology

BUS टोपोलॉजी में सभी नेटवर्क डिवाइस एक ही नेटवर्क केबल से जुड़े होते हैं। इसमें सभी कम्प्यूटर्स को एक लाइन में एक केबल से जोड़ा जाता हैं। केबल के शुरू और अंत में एक डिवाइस को लगाया जाता हैं जिसको ट्रांस्जिस्टर कहते हैं। इसका काम सिग्नल को नियंत्रण करना होता हैं।Bus टोपोलॉजी  में तब प्रॉब्लम हो सकती हैं जब बहुत सारे कम्प्यूटर्स एक ही टाइम पर डेटा भेजना चाहते हैं।

लाभ -Advantages 

  • इस टोपोलॉजी के निर्माण में लागत कम होती हैं।
  • इसमें  केबल का इस्तेमाल बाकी टोपोलॉजी से कम हैं ।
  • इस टोपोलॉजी को सेटअप करना बहुत आसान हैं।

हानि -Disadvantages 

  • अगर केबल टूट जाता हैं तो पूरा नेटवर्क बंद हो जाता हैं।
  • अगर डेटा ट्रैफिक अधिक हैं तो नेटवर्क का परफॉरमेंस कम हो जाता हैं।
  • केबल की लंबाई सीमित होती हैं।

STAR Topology

STAR Topology

Star Topology को Star नेटवर्क भी कहते है। स्टार टोपोलॉजी मे नेटवर्क से जुड़े सभी उपकरणों ( Examples: कम्प्यूटर, लैपटॉप, सर्वर, प्रिंटर्स आदि ) को एक Central (केंद्रीय) डिवाइस से जोड़ा जाता हैं। यह डिवाइस Switch या Hub हो सकती हैं।

लाभ -Advantages 

  • इस टोपोलॉजी में नेटवर्क का एक सेंट्रल एक्सेस होता हैं जैसे की Switch, सेंट्रल एक्सेस होने के कारण इसे आसानी से मैनेज किया जा सकता हैं। 
  • इस टोपोलॉजी में प्रॉब्लम को बहुत आसानी से दूर किया जा सकता हैं क्यकि अगर कोई डिवाइस ख़राब हो गयी हैं तो Switch के पैनल पर उस डिवाइस से जुड़े केबल की led लाइट ऑफ हो जाती हैं जिससे इसे जल्दी से बदला जा सकता हैं। 
  • अगर कोई डिवाइस बंद या ख़राब हो जाती हैं तो नेटवर्क में कोई प्रॉब्लम नहीं होती हैं। 
  • नेटवर्क डिवाइस को अपग्रेड और कॉन्फ़िगर करने में आसानी होती हैं। 
  • इस नेटवर्क टोपोलॉजी को बहुत बड़ा भी बनाया जा सकता हैं जिसमें बहुत सारे Switches का इस्तेमाल किया जा सकता हैं।

हानि -Disadvantages 

  • इस नेटवर्क की सबसे बड़ी कमी हैं कि अगर सेंट्रल डिवाइस ख़राब हो जाती हैं तो पूरा नेटवर्क बंद हो जाता हैं।
  • नेटवर्क डिवाइस की संख्या निश्चित होती हैं क्युकि सेंट्रल डिवाइस में पोर्ट की संख्या कम होती हैं।
  • बहुत सारे Lan केबल्स होने के कारण नेटवर्क बहुत जटिल दिखता हैं।

RING Topology

RING Topology

रिंग टोपोलॉजी एक विशेष (Particular)  प्रकार के नेटवर्क कॉन्फिग्रेशन के सेटअप को कहते  है जिसमे सभी नेटवर्क उपकरण ( जैसे कम्प्यूटर, सर्वर, प्रिंटर, लैपटॉप आदि )  एक दूसरे से रिंग के आकर की तरह जुड़े होते है। Ring Topology मे एक डिवाइस से दूसरा और दूसरे डिवाइस से तीसरा और जो अंतिम डिवाइस होता है वो पहली डिवाइस से जुड़ा होता है इस तरह से ये एक रिंग बन जाता है जिसे रिंग टोपोलॉजी कहते है।

लाभ -Advantages

  • रिंग टोपोलॉजी को इनस्टॉल और कॉन्फ़िगर करना आसान होता है क्युकि इसमे कम कनेक्शन की आवश्य्कता पड़ती है। इसमे अगर कोई fault होता है तो इसे आसानी से ठीक भी कर सकते है। 
  • रिंग Topology मे जब भी किसी उपकरण जैसे कम्प्यूटर को नेटवर्क से हटाने या जोड़ने की जरुरत पड़ती है तो इसे आसानी से किया जा सकता है क्युकि इसमे केवल दो उपकरण दाएं और बाएँ वालों के केबल को ही जोड़ना पड़ता है।
  • रिंग टोपोलॉजी को किसी भी Central डिवाइस की जरुरत नहीं होती है, इसमे कम्प्यूटर एक दूसरे से सीधे जुड़े होते है। Token रिंग नेटवर्क मे Central डिवाइस MSAU की आवश्यकता होती है। 
  • इस टोपोलॉजी मे ऑप्टिकल फाइबर केबल का इस्तेमाल कर सकते है इसलिए नेटवर्क की गति काफी अच्छी होती है। 
  • डेटा का फ्लो एक जगह से दूसरी जगह तक व्यवस्थित तरीके से होता है। 
  • डेटा टकराव की संभावना काम हो जाती है क्युकि प्रत्येक डिवाइस डेटा  प्राप्त करने के बाद डेटा पैकेट भेजती है। 

हानि -Disadvantages 

  • Single point of failure. इसका मतलब है कि अगर कोई एक डिवाइस भी बंद या ख़राब हो जाती है तो पूरा नेटवर्क काम करना बंद कर देगा 
  • यदि एक बहुत बड़ा नेटवर्क है जिसमे कोई उपकरण बंद हो गया है, ख़राब कम्प्यूटर को खोजने मे बहुत सारे कम्प्यूटर की जांच करने की आवश्यकता पड़ सकती है। 
  • रिंग नेटवर्क मे एक डेटा पैकेट को सभी डिवाइस पर क्लॉक की दिशा की तरह गुजरना पड़ता है यह भी एक नुकसान है। Examples के तौर पर एक नेटवर्क मे एक कम्प्यूटर है जो की लाइन के लास्ट मे है, अगर इसे अपने से पीछे कम्प्यूटर को कोई संदेश भेजना है तो डाटा पैकेट आगे की तरफ गुजरेगा और सभी डिवाइस को डेटा पैकेट्स भेजते रहेगा। 

MESH Topology

MESH टोपोलॉजी में एक होस्ट एक या कई होस्ट से जुड़ा होता हैं। इसको Mesh नेटवर्क भी कहते हैं। सभी होस्ट आपस में एक दूसरे से पॉइंट टू पॉइंट कनेक्शन के माध्यम से जुड़े होते हैं। कुछ होस्ट ऐसे भी हो होस्ट होते हैं जो कुछ ही होस्ट के साथ पॉइंट टू पॉइंट जुड़े होते है।
इस टोपोलॉजी का ज्यादातर इस्तेमाल नेटवर्क Router को आपस में जोड़ने के लिए किया जाता है।

लाभ -Advantages 

  • डेटा जल्दी पहुँचता हैं अगर मार्ग (If Hop Count is 1 ) छोटा हैं। 
  • इसमे बहुत सारे कनेक्शन होने से कोई होस्ट नेटवर्क से अलग नहीं हो सकता। 
  • बहुत सारे कनेक्शन होने से एक होस्ट बहुत जगहों से एक ही टाइम पर डेटा प्राप्त कर सकता हैं। 
  • नए होस्ट को जोड़ने में आसानी होती यह अन्य होस्ट के लिए रूकावट का कारण नहीं बनता हैं।

हानि -Disadvantages

  • अधिक कनेक्शन होने से नेटवर्क एक जाल की तरह होता हैं जिसको मैनेज करने में प्रॉब्लम होती हैं। 
  • ज्यादा पॉइंट टू पॉइंट कनेक्शन होने से कनेक्शन के रखरखाव में कठिनाई होती हैं।

TREE Topology 

TREE Topology

यह टोपोलॉजी एक नेटवर्क को अलग अलग नेटवर्को में विभाजित करती हैं। इस टोपोलॉजी में स्टार और बस टोपोलॉजी दोनों के गुण होते हैं ।इसमें एक होस्ट कम्प्यूटर होता है और अन्य कम्प्यूटर इससे जुड़े होते हैं। इसको Hierarchical Topology भी कहा जाता हैं। यह वर्तमान में सबसे अधिक इस्तेमाल होने वाली टोपोलॉजी हैं।

लाभ -Advantages 

  • यह Bus और Star टोपोलॉजी का विस्तार रूप है। 
  • होस्ट का विस्तार करना सम्भव और आसान है। 
  • इस नेटवर्क को आसानी से Manage और Maintain  किया जा सकता है। 
  • अगर नेटवर्क में कोई प्रॉब्लम होती है तो इसका पता लगाना आसान होता है। 

हानि -Disadvantages

  • यह नेटवर्क बाकी टोपोलॉजी के तुलना में महंगा ( costly ) होता है। 
  • इस नेटवर्क में बहुत केबल हो सकती है। 
  • अगर अधिक होस्ट जोड़े जाते है तो रखरखाव मे कठिनाई हो सकती है। 
  • होस्ट कम्प्यूटर के बंद होने पर पूरा नेटवर्क फेल हो जाता है। 

Hybrid Topology

Hybrid Topology

यह नेटवर्क बहुत सारे टोपोलॉजी का मिश्रण हैं। एक नेटवर्क बनाने में या फिर एक नेटवर्क को डिज़ाइन और सेटअप करने में एक से अधिक टोपोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता हैं  तो उस टोपोलॉजी को हाइब्रिड टोपोलॉजी कहते हैं। उदाहरण के लिए एक कमरे में रिंग टोपोलॉजी है और दूर किसी कमरे में स्टार टोपोलॉजी हैं इनको जोड़ने के लिए Hybrid Topology का इस्तेमाल किया जाता हैं।

लाभ -Advantages 

  • नेटवर्क मे प्रॉब्लम का पता लगाना और इसे दूर करना आसान है। 
  • आकर के रूप मे इस नेटवर्क को आसानी से बढ़ाया जा  सकता है। 

हानि -Disadvantages 

  • यह नेटवर्क महंगा होता है क्युकी इसको सेटअप करने मे अधिक नेटवर्क स्विच और राऊटर का इस्तेमाल हो सकता है। 
  • इसका डिज़ाइन काफी जटिल होता है। 

ये भी जानिये : 

स्टार टोपोलॉजी क्या है ? पूरी जानकारी विस्तार मे

रिंग टोपोलॉजी क्या है ? पूरी जानकारी विस्तार मे

क्या आपके कम्प्यूटर मे Windows 11 चल सकता है ?

Paytm Wallet क्या है?

कौन सी टोपोलॉजी सर्वर कंप्यूटर के हिसाब से बेहतर होती है ?

Full Mesh Topology में नेटवर्क के एक होस्ट का नेटवर्क के दूसरे होस्ट से एक कनेक्शन रहता हैं। इसमें अगर कोई लिंक या कोई होस्ट बंद भी होता हैं तब भी नेटवर्क में आसानी में डेटा ट्रांसफ़र होते रहता हैं। यह सभी टोपोलॉजी में सबसे विश्वसनीय हैं।

आशा करते हैं की आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी।आप हमें अपने सुझाव और शिकायत के लिये नीचे कमैंट्स बॉक्स मैं जानकारी दें सकते हैं।

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x