PAN Card क्या है और पैन कार्ड कहाँ बनता है ?

PAN Card को Permanent Account Number के रूप में भी जाना जाता हैं। आज इस ब्लॉग में हम जानेगे PAN Card क्या हैं, पैन कार्ड कहाँ बनता हैं और पैन कार्ड के नुकसान क्या हैं।

PAN Card क्या है ?

PAN Card को स्थायी खाता संख्या के रूप में जाना जाता हैं इंग्लिश में इसे Permanent Account Number कहते हैं। यह भारत के सभी टैक्स जमा वाले नागरिकों के लिए एक तरह से पहचान कार्ड हैं। इसका अर्थ यह बिलकुल भी नहीं हैं की जो लोग टैक्स नहीं जमा करते हैं या टैक्स के दायरे में नहीं हैं उनको पैन कार्ड की जरूरत नहीं हैं। यह कार्ड भारत के सभी नागरिको के लिए हैं।

पैन कार्ड में एक 10 अंको का नंबर होता हैं जिसे पैन नंबर या Permanent Account Number कहते हैं। यह एक विशिष्ट पहचान संख्या होता हैं जो हर नागरिक के लिए अलग-अलग होता हैं। इस नंबर से इनकम टैक्स डिपार्टमैंट सभी टैक्स जमा करने वाले नागरिको का Financial Transactions अथार्त वित्तीय लेनदेन पर नजर रखता हैं।

PAN Card


PAN Card इनकम टैक्स डिपार्टमैंट की तरफ से जारी किया गया एक पहचान कार्ड है जिसकी मदद से कर (Tex) जमा करने वाले नागरिकों की Financial Transactions पर नजर रखी जा सके।

पैन कार्ड कहाँ बनता है ?

जैसे की अब आप जान चुके हैं की PAN कार्ड क्या होता हैं। आइये जानते हैं कि पैन कार्ड कहाँ बनता हैं कैसे बनता हैं ?
pan आवेदन की प्रक्रिया बहुत ही आसान हैं। आप पेन कार्ड ऑनलाइन बनवा सकते हैं। इसके लिए ऑनलाइन ही सारे फॉर्म भर सकते हैं, लेकिन आपको सारे डॉक्यूमेंट को इनकम टैक्स ऑफिस के पास पोस्ट करना होगा। तभी आवेदन की प्रक्रिया पूरी होगी। वेबसाइट पर फॉर्म भरने के बाद आप अपने एप्लिकेशन को PAN कार्ड ऑफिस भेज दें।


पेन कार्ड ऑनलाइन बनवाने के लिए इनकम टैक्स की वेबसाइट NSDL का इस्तेमाल करें।पेन कार्ड का नंबर लेने के लिए आपको फॉर्म 49A भरना होगा। अगर पैन कार्ड ऑनलाइन भरने में कोई प्रॉब्लम होती हैं तो आप हेल्पलाइन नंबर पर कॉल कर सकते है या आप अपने नजदीकी पैन कार्ड सेंटर में जाए और वहाँ से भी आप कार्ड बना सकते हैं।

जानिये : Paytm Wallet क्या है?

PAN Card की आवश्यकता क्यों है ?

  • सबसे पहला कारण यह है की अगर आपको आईटी फाइल करना हैं तो इसके लिए आपके पास पैन कार्ड होना ज़रुरी हैं। 
  • अगर आपको कोई लोन की ज़रुरत हैं तो यहाँ पर भी पैन कार्ड का बहुत विशेष काम होता हैं। बैंक लोन देने से पहले आपके पैन कार्ड का विवरण चेक करती हैं। सभी प्रकार के लोन के लिए इसकी ज़रुरत होती हैं। 
  • पेन कार्ड के होने पर आप आसानी से किसी भी निजी और सरकारी बैंकों में अपना चालू बचत खाता या सामान्य बचत खाता खोल सकते हैं। 
  • अगर आप 50000 हजार से ज्यादा की रकम जमा कर रहे हैं तो RBI के अनुसार आपका पेन कार्ड अनिवार्य हैं। 
  • क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड लेने से पहले पेन कार्ड का विवरण देना अनिवार्य हैं।
  • 500,000 से अधिक का कोई भी वाहन बेचने के लिए पैन कार्ड आवश्यक हैं। 
  • पेन कार्ड एक पहचान प्रमाण के रूप भी काम करता हैं जिसकी मदद से आप अन्य कोई डाक्यूमेंट्स बना सकते हैं जैसे की आधार कार्ड, राशन कार्ड आदि। 
  • 500,000 से अधिक का गोल्ड खरीदने पर भी पैन कार्ड का विवरण देना अनिवार्य हैं।

पैन कार्ड के नुकसान क्या है ?

अगर आप टैक्स भरते हैं तो आप अपना पैन नंबर हर जगह पर देने से बचें। किसी दूसरे के पैन नंबर से बेनामी राशि, हवाला बहुत सारे अवैध काम भी किये जा सकते हैं। अगर आपके पास अन्य पहचान प्रमाण हैं जैसे की आधार कार्ड, राशन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस कार्ड आदि तब ऐसी स्थिति में आप पेन कार्ड देने से बच सकते हैं।
अगर आपका पैन कार्ड खो गया हैं तब आप इसकी तुरंत पुलिस स्टेशन में FIR दर्ज करायें ताकि कोई इसका दुरूपयोग ना कर सकें। आप नए पेन कार्ड के लिए आवेदन भर सकते हैं।

जानिये : इन्टरनेट क्या हैं ? और कैसे काम करता है ?

पैन कार्ड की वैधता ( Validity ) कब तक होती है?

पैन कार्ड की कोई Validity नहीं होती है। ये हमेशा पुरे जीवनभर के लिए होता है क्युकी पैन नंबर कभी चेंज नहीं हो सकता है।

आशा करते हैं की आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी।आप हमें अपने सुझाव और शिकायत के लिये नीचे कमैंट्स बॉक्स मैं जानकारी दें सकते हैं।

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x