साई बाबा की आरती | Sai Baba ki Aarti पढ़े

साई बाबा की आरती sai baba ki aarti उनकी पूजन और भक्ति का एक प्रमुख तरीका है। साई बाबा के भक्तों को उनकी आरती गाने से बहुत अधिक आनंद और शांति का अनुभव होता है। साई बाबा की आरती में, भक्तों के द्वारा उनके प्रति दीप भक्ति का प्रतीक होता है। जब भक्तों के द्वारा दीपक जलाया जाता है, तब उनकी आरती शुरू होती है।

साईं बाबा को भारत में एक धार्मिक गुरु के रूप में माना जाता है और उन्हें उनकी अनंत कृपा, दया और आशीर्वाद का प्रतीक माना जाता है। साईं बाबा के उपासक उन्हें भक्ति भाव से पूजते हैं और उन्हें अपने जीवन के सभी क्षेत्रों में सहायता देने के लिए उनसे आशीर्वाद लेते हैं।

साई बाबा की आरती | Sai aarti lyrics in hindi | Sai ki aarti in Hindi

sai baba ki aarti

ॐ जय साईं हरे, बाबा शिरडी साईं हरे।


भक्तजनों के कारण, उनके कष्ट निवारण॥
शिरडी में अवतरे, ॐ जय साईं हरे॥
ॐ जय साईं हरे, बाबा शिरडी साईं हरे।।

दुखियन के सब कष्टन काजे, शिरडी में प्रभु आप विराजे।
फूलों की गल माला राजे, कफनी, शैला सुन्दर साजे॥
कारज सब के करें, ॐ जय साईं हरे ॥
ॐ जय साईं हरे, बाबा शिरडी साईं हरे।।

काकड़ आरत भक्तन गावें, गुरु शयन को चावड़ी जावें।
सब रोगों को उदी भगावे, गुरु फकीरा हमको भावे॥
भक्तन भक्ति करें, ॐ जय साईं हरे ॥
ॐ जय साईं हरे, बाबा शिरडी साईं हरे।।

हिंदू मुस्लिम सिक्ख इसाईं, बौद्ध जैन सब भाई भाई।
रक्षा करते बाबा साईं, शरण गहे जब द्वारिकामाई॥
अविरल धूनि जरे, ॐ जय साईं हरे ॥
ॐ जय साईं हरे, बाबा शिरडी साईं हरे।।

भक्तों में प्रिय शामा भावे, हेमडजी से चरित लिखावे।
गुरुवार की संध्या आवे, शिव, साईं के दोहे गावे॥
अंखियन प्रेम झरे, ॐ जय साईं हरे ॥
ॐ जय साईं हरे, बाबा शिरडी साईं हरे।।

ॐ जय साईं हरे, बाबा शिरडी साईं हरे।
शिरडी साईं हरे, बाबा ॐ जय साईं हरे॥
श्री सद्गुरु साईंनाथ महाराज की जय॥

Shirdi Sai Baba Aarti

आरती साईबाबा सौंदर्य माया आरती जय साईबाबा।
सांगे सांगे दत्तगुरू जीवदानी आरती जय साईबाबा।।

श्री सच्चिदानंद सद्गुरु साईनाथ महाराज की जय।।

आरती साईबाबा सौंदर्य माया आरती जय साईबाबा।
सांगे सांगे दत्तगुरू जीवदानी आरती जय साईबाबा।।

निस्तुला काया माझे कोटी ब्रह्मांड नायक राजा धिराजा
अष्टोभजाये राजा रंगा पांडुरंगा साईबाबा राजा रंगा पांडुरंगा साईबाबा।
सास्था सांगे दत्तगुरू जीवदानी आरती जय साईबाबा।।

जय देव जय देव साईनाथ महाराज।
श्री सच्चिदानंद सद्गुरु साईनाथ महाराज की जय।।

काकड़ आरती-Kakad Aarti

साईं बाबा की काकड़ आरती दोपहर से पहले सुबह के वक्त उनकी पूजा के दौरान गाई जाती है। यह आरती साईं बाबा की सुप्रभात उठने की अवसर पर गाई जाती है। इस आरती का महत्व बहुत अधिक होता है और इसे उन लोगों द्वारा बहुत पसंद किया जाता है जो साईं बाबा के श्रद्धालु होते हैं।

कांकडआरती करीतों साईनाथ देवा । 

चिनमयरुप दाखवीं घेउनि बालक-लघुसेवा ।। 
काम क्रोध मद मत्सर आटुनी कांकडा केला । 

वैराग्याचे तूप घालुनी मी तो भिजवीला ।
साईनाथगुरुभक्तिज्वलनें तो मी पेटविला । 

तद्वृत्ती जाळुनी गुरुनें प्रकाश पाडिला ।
द्घेत-तमा नासूनी मिळवी तत्स्वरुपीं जीवा ।।
भू-खेचर व्यापूनी अवघे हृत्कमलीं राहरसी । 

तोचि दत्तदेव तू शिरड़ी राहुनी पावसी ।
राहुनि येथे अन्यत्रहि तू भक्तांस्तव धांवसी । 

निरसुनियां संकटा दासा अनुभव दाविसी ।
न कळे त्वल्लीलाही कोण्या देवा वा मानवा ।। 
त्वघशदुंदुभीनें सारें अंबर हेंकोंदलें । 

सगुण मूर्ति पाहण्या आतुर जन शिरडी आले ।
प्राशुनि त्वद्घचनामृत अमुचे देहभान हरपलें । 

सोडूनियां दुरभिमान मानस त्वच्चरणीं वाहिले ।
कृपा करुनियां साईमाउले दास पदरिं ध्यावा ।। 

साई बाबा की आरती की विधि

  1. आरती गाने से पहले, अपने हाथों को धोए और साफ करें।
  2. मंदिर या साई बाबा की प्रतिमा के सामने बैठ जाएँ और प्रार्थना करें।
  3. फिर, आरती की थाली के साथ दीपक, फूल, चावल, हल्दी आदि की सामग्री लेकर अपने सामने रखें।
  4. अब दीपक को जलाकर आरती के गीत गाना शुरू करें। आरती के गीत गाते समय, थाली को घुमाकर सभी सामग्री को साई बाबा की प्रतिमा की ओर ले जाएँ।
  5. आरती के गीत के बाद, थाली को साई बाबा की प्रतिमा के सामने रखें और आरती समाप्त करें।

इस विधि को अनुसारित करते हुए साई बाबा की आरती बहुत शक्तिशाली होती है और उनके भक्तों को आशीर्वाद प्रदान करती है।

sai baba ki aarti

साईं बाबा की पूजा कौन कर सकता है?

साईं बाबा की पूजा कोई भी कर सकता है, चाहे वह हिंदू हो, मुस्लिम हो या किसी अन्य धर्म के व्यक्ति हो। साईं बाबा ने अपने जीवन के दौरान समस्त धर्मों का सम्मान किया था और सभी लोगों को समान रूप से आशीर्वाद दिया था। उन्होंने धर्म के मतभेदों के बावजूद सभी मनुष्यों को धर्म के मार्ग पर चलने की सलाह दी थी।

इसलिए, साईं बाबा की पूजा कोई भी कर सकता है, जो भी उन्हें भक्तिपूर्वक और श्रद्धापूर्वक पूजना चाहता है। साईं बाबा के भक्त उन्हें घर पर या मंदिर में पूजा कर सकते हैं और उनसे आशीर्वाद ले सकते हैं।

साईं बाबा को खुश कैसे करें?

साईं बाबा को खुश करने के लिए कुछ आसान तरीके हैं, जो उनकी प्रतिष्ठा और भक्ति को बढ़ाते हैं।

  1. प्रार्थना करें: साईं बाबा को प्रार्थना करना उनके लिए सबसे बढ़िया तरीका है। आप उन्हें रोजाना अपनी जिंदगी की जरूरतों और समस्याओं की बता सकते हैं और उनसे उनके समाधान के लिए विनती कर सकते हैं।
  2. दान करें: साईं बाबा को खुश करने का एक और तरीका दान करना है। आप उनकी प्रतिष्ठा को बढ़ाने के लिए अपने अधिकांश समय या संपत्ति का दान कर सकते हैं।
  3. सेवा करें: साईं बाबा को खुश करने का एक और तरीका सेवा करना है। आप उनके मंदिर में सेवा कर सकते हैं या उनके भक्तों की सेवा कर सकते हैं।
  4. सदाचार का पालन करें: साईं बाबा को खुश करने का एक और तरीका सदाचार का पालन करना है। आप उनके जीवन के मूल्यों को अपनाकर समस्त लोगों के प्रति दया और सम्मान बरत सकते हैं।
sai baba ki aarti in hindi lyrics

साईं बाबा को कौन सा रंग पसंद है?

साईं बाबा को वैभव और प्रशस्ति का प्रतीक माना जाता है और उनके लिए सफेद रंग बहुत महत्वपूर्ण है। वैसे तो उन्हें सभी रंगों में प्रसन्नता होती है जैसे पीला रंग, लेकिन सफेद रंग को उनकी पूजा-अर्चना में बहुत ज्यादा महत्व दिया जाता है। साथ ही, साईं बाबा के उपासक अक्सर सफेद वस्त्र धारण करते हुए उन्हें अर्पण करते हैं।

क्या साईं बाबा मेरी प्रार्थना का जवाब देंगे?

साईं बाबा एक संत थे और उन्होंने अपने जीवन में भक्तों की मदद करने का जीवन व्यतीत किया था। उन्होंने अपने जीवन में कई लोगों की प्रार्थनाओं को सुना और उन्हें उनकी मनोकामनाओं की पूर्ति की।

इसलिए, अगर आप साईं बाबा से कुछ माँग रहे हैं तो आपको यह जान लेना चाहिए कि आपकी प्रार्थना का जवाब मिल सकता है। आपकी प्रार्थना का जवाब आपको उनके अनुभव, संदेश या किसी अन्य माध्यम से मिल सकता है।

संकट और मुश्किल से निजात पाने के लिए अपनी श्रद्धा को बनाए रखें और साईं बाबा के नाम का जाप करते रहें। वे आपके सभी कष्टों को हल कर सकते हैं और आपकी प्रार्थनाएं अवश्य सुनते हैं।

यह भी पढ़े: 1- माँ दुर्गा जी की आरती|| 2- शंकर जी की आरती 3- लक्ष्मी जी की आरती 4- ओम जय जगदीश हरे आरती

आशा करते हैं की आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी। आप हमें अपने सुझाव और शिकायत के लिये नीचे कमैंट्स बॉक्स मैं जानकारी दें सकते हैं।

+ posts

नमस्कार 🙏दोस्तों, मेरा नाम पूजा है। मैंने MA हिंदी साहित्य से किया है। मुझे हिंदी में लेख लिखने का बहुत शौक है। हिंदी साहित्य से मास्टर करने के बाद मैंने ब्लॉग लिखने की शुरआत की। दोस्तों आपको मेरे ब्लॉग पोस्ट कैसे लगते है इस बारे में आप मुझे बता सकते है। मुझे सम्पर्क करने के लिए आप कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते है। धन्यवाद !

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x