SSD kya hai?SSD Drive kya hai-Solid State Drive

SSD kya haiSSD का फुल फॉर्म Solid State Drive होता है। दोस्तों, आज इस ब्लॉग में SSD Drive kya hai ? और HDD VS SSD में क्या अंतर हैं? इनके बारे में विस्तार से जानेंगे।

एसएसडी क्या हैं और कैसे काम करती हैं इस बारे में जानने से पहले हार्ड डिस्क ड्राइव के बारे में जानने की जरुरत हैं। हार्ड डिस्क ड्राइव (HDD) एक स्टोरेज उपकरण हैं जिसका इस्तेमाल कंप्यूटर, लैपटॉप, सर्वर आदि में डेटा को स्टोर करने के लिए किया जाता हैं। हार्ड ड्राइव के अंदर एक चुंबकीय डिस्क (Magnetic Disks) होती हैं जिसमे डेटा स्टोर होता हैं यह चुंबकीय डिस्क दिखने में सीडी डीवीडी डिस्क जैसी ही होती हैं जिसे प्लैटर्स (Platters) कहते हैं। प्लैटर्स के ऊपर एक रीड-राइट हैड जुड़ा होता हैं यह हार्ड डिस्क में जानकारी को पढ़ने और लिखने के लिये होता हैं। 

प्लैटर्स HDD के अंदर गोल-गोल घूमती है जिससे रीड-राइट हैड को प्लैटर्स के ऊपर जानकारी को पढ़ने और लिखने में आसानी मिलती है प्लैटर्स जितनी तेज गति से घूमेगी उतनी तेजी से जानकारी को हार्ड डिस्क के ऊपर लिखा और पढ़ा जा सकता हैं अथार्थ हार्ड डिस्क में RPM की संख्या जितनी ज्यादा होगी प्लैटर्स डिस्क उतनी तेजी से घूमेगी जिससे कंप्यूटर बहुत तेजी से काम करेगा। RPM को हिंदी में राउंड पर मिनट कहते है। RPM जितना अधिक होगा हार्ड डिस्क उतनी तेज होगी मार्किट में अधिकांश हार्ड डिस्क की RPM दर 5400 से 15000 तक होती हैं। 

इससे यह स्पष्ट हो रहा है की हार्ड डिस्क की गति उतनी नहीं है जितनी कंप्यूटर में CPU की होती हैं अथार्त यह सीपीयु की गति से मेल नहीं खा रहा हैं। CPU की स्पीड को नैनोसेकंड में मापा जाता हैं जबकि हार्ड डिस्क में Latency को मिलीसेकंड में मापा जाता हैं। Latency का मतलब डेटा को हार्ड डिस्क में पढ़ने या लिखने में लगने वाले मिलीसेकंड के समय को कहते हैं। 1 मिलीसेकंड, 1000000 नैनोसेकंड के बराबर होता हैं। कंप्यूटर के क्षेत्र में रोज नये-नये एप्लीकेशन और टेक्नोलॉजी का विकास बहुत तेजी से हो रहा हैं सम्भवतः हार्ड डिस्क उस गति से काम नहीं कर सकती हैं जिससे इसका सबसे अच्छा विकल्प अभी SSD (Solid State Drive) बना हैं। 

SSD kya hai-SSD Drive kya hai

SSD kya hai
Solid State Drive

Solid State Drive एक प्रकार की स्टोरेज डिवाइस हैं जिसका इस्तेमाल कंप्यूटर में डेटा और इनफार्मेशन को स्टोर करने के लिए होता हैं। इनका उपयोग  कंप्यूटर , लैपटॉप, टैबलेट,  डिजिटल कैमरा, डिजिटल म्यूजिक प्लेयर, कंप्यूटर गेम, स्मार्टफोन,  और थंब ड्राइव में भी किया जाता है। SSD ने अभी पुरानी स्टोरेज डिवाइस HDD की जगह ले ली हैं क्यकि यह हार्ड डिस्क की तुलना में बहुत तेज हैं। इसके अंदर कोई भी चुंबकीय डिस्क या कोई रीड-राइट हैड नहीं होता हैं इसमें डेटा को NAND flash के pool में रखा जाता हैं इसीलिये इसे सॉलिड-स्टेट-ड्राइव कहते हैं। SSD में डेटा को लिखने और पढ़ने की अधिकतम दर 560Mb/s हैं। 

NAND flash: यह एक प्रकार का  non-volatile storage तकनीक हैं। Non-Volatile Storage एक प्रकार का स्टोरेज सिस्टम हैं जिसमे संग्रहीत डेटा को बिजली नहीं रहने पर भी बरकरार रखा जाता हैं। 

SSD कैसे काम करती हैं?

SSD और HDD का उद्देश्य एक ही है यह दोनों कंप्यूटर में डेटा और इनफार्मेशन को लंबे समय तक बरकरार रखते हैं। सॉलिड-स्टेट-ड्राइव अथार्त एसएसडी flash memory नाम की एक प्रकार की मेमोरी का इस्तेमाल करते हैं जिसका इस्तेमाल कंप्यूटर की RAM में भी किया जाता हैं परन्तु RAM में डेटा बिजली नहीं होने पर साफ़ जो जाता है लेकिन इसके विपरीत SSD में डेटा कंप्यूटर के पावर डाउन के बाद भी लंबे समय तक बना रहता हैं।

एसएसडी के अंदर हार्ड डिस्क जैसे कोई चुंबकीय डिस्क या कोई लिखने और पढ़ने वाला हैड नहीं होता हैं इसके विपरीत इसके अंदर एक चिप होती हैं यह चिप दिखने में मेमोरी कार्ड जैसी होती हैं चिप के ऊपर इलेक्ट्रॉनिक्स ब्लॉक होते हैं जो की खाली पन्नों जैसे होते हैं जिनके ऊपर डेटा बहुत तेजी से स्टोर होता हैं। 

SSD की विशेषताएं

SSD की बहुत सारी खूबियां हैं जो इसे एक साधारण हार्ड डिस्क से अलग बनाते हैं इसका आकर भी काफी छोटा और सुविधाजनक होता हैं। हार्ड डिस्क में पावर ऑन पर आवाज आती हैं जबकि एसएसडी बहुत शांत रहती हैं और इनमें बिजली की खपत भी कम हैं। SSD वजन में भी साधारण हार्ड डिस्क की तुलना में कम हैं इसका वजन काफी कम हैं जिससे यह लैपटॉप या टेबलेट आदि में उपयोग के लिए सुविधाजनक हैं।

Advantages of SSDSSD kya hai?

  • इसमें बिजली की खपत कम हैं क्युकी इसके अंदर कोई मूविंग पार्ट्स नहीं होते हैं जैसे की कोई मोटर, चुंबकीय प्लेट आदि। 
  • SSD ड्राइव में डेटा को पढ़ने और लिखने की गति तेज होती हैं इसमें फ़्लैश मेमोरी चिप होती हैं जिससे इसे इनफार्मेशन को पढ़ने और लिखने में गति मिलती है। 
  • इसमें एक विशेषता यह हैं कि डेटा को पूरी तरह से नष्ट करने के पश्चात, डेटा को स्थायी रूप से हटा दिया जाता हैं डेटा का कोई निशान शेष नहीं रहता हैं जिससे डेटा की सुरक्षा मिलती हैं और परफॉरमेंस में गति भी मिलती हैं।  
  • इसमें कोई शोर भी नहीं होता हैं क्युकि इसमें मेकैनिकल पार्ट्स नहीं होते हैं जैसे रीड-राइट हैड इसमें चिप होती हैं। 
  • SSD में कंप्यूटर को तेजी से बूट करने की शक्ति होती हैं अथार्त इसके इस्तेमाल से कंप्यूटर तेजी से ऑन और ऑफ हो जाता हैं जिससे टाइम की भी बचत होती हैं। 
  • SSD drive में मोटर्स की कमी होती हैं जिसके चलते यह गर्म भी कम होते हैं लैपटॉप उपयोगकर्ता के लिए यह विशेष हैं क्युकि लैपटॉप को लोग गोद में रखकर भी काम करते हैं। 
  • इसमें फाइल को एक्सेस करने की परफॉरमेंस अधिक होती हैं यह डेटा को एक पल में एक्सेस कर सकता हैं चाहें डेटा कही पर भी रखा होता हैं। 

Disadvantages of SSD

एसएसडी के बहुत सारे फायदे हैं लेकिन इसके कुछ नुकसान भी हैं जो कि निम्नलिखित हैं। 

  • इसका सबसे बड़ा नुकसान इसकी कीमत हैं यह काफी महंगे मिलते हैं एक SSD खरीदने में जितनी लागत लगती हैं उतने में दो या तीन HDD खरीद सकते हैं। 
  • एसएसडी थोड़े कम स्टोरेज क्षमता के मिलते हैं जैसे की 80/160/256 जीबी और 1TB आदि ऐसा इसलिए क्युकि यह अत्यधिक महंगे होते हैं। 
  • डेटा की रिकवरी Recovery of Deta भी SSD के बड़े नुकसानों में से एक हैं। इसमें delete किये गये या फिर format की गयी एसएसडी में से डेटा को पुनः प्राप्त नहीं किया जा सकता हैं अगर डेटा का कोई बैकअप उपलब्ध नहीं है तब यह एक बहुत बड़ा नुकसान हैं हालाँकि डेटा की सुरक्षा के हिसाब से यह सही हैं। यह तो आपको पता होगा ही कि HDD से delete या format किये गए डेटा को वापस प्राप्त किया जा सकता हैं।  

यह भी जानिये:

वाईफाई क्या है? स्विच क्या है? कैसे काम करता है? राऊटर क्या है? VPN क्या है?

आशा करते हैं की आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी।आप हमें अपने सुझाव और शिकायत के लिये नीचे कमैंट्स बॉक्स मैं जानकारी दें सकते हैं।

Website | + posts

Hello Friends, My name is Pankaj I have almost 6 years of experience in the IT industry and 3+ years of experience in the software service industry. I thought to create a blog to provide information about the latest technology to everyone from my experience. I have made the MygoodLuck site for people to learn about technology in Hindi.

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x